बागी बने बाघ

2019 में महाराष्ट्र की जनता ने बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को सरकार बनाने का जनादेश दिया था। लेकिन मामला तब अटका जब ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले पर सहमति नहीं बनी। एक अप्रत्याशित घटनाक्रम में जब पूरा देश नींद से उठा तो एक तस्वीर सामने आई जिसमें देवेंद्र फडणवीस सीएम पद की शपथ ले रहे थे और उनके बाद एक और शख्स अजीत पवार ने भी डिप्टी सीएम की शपथ ली थी। अजीत पवार के शपथ लेने का मतलब था शरद पवार की हार। लेकिन राजनीति में हर दांवपेंच में माहिर शरद पवार ने बाजी पलट दी। महाराष्ट्र की राजनीति एक ऐसे सफर पर चल पड़ी जो हर किसी की सोच से परे था।महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने महाविकास अघाड़ी का गठन किया और सरकार के मुखिया बने उद्धव ठाकरे। लेकिन समय का चक्र कहिए कि जिस शिवसेना में कोई विधायक या कार्यकर्ता अपने नेता के खिलाफ बोलने की जुर्रत नहीं करता था उसके 39 विधायक उसी शिवसेना के खिलाफ बगावत करके बागी हो गए।और इन बागियों की बागडोर रही एकनाथ शिंदे के हाथों में। राजनीति से कानून लड़ाई के जरिए उद्धव ठाकरे ने अपनी सरकार बचाने की कोशिश की। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट के बारे में जब फैसला सुनाया तो करीब करीब यह साफ हो गया कि उद्धव ठाकरे के पास इस्तीफे के अलावा कोई और विकल्प नहीं था।महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम पर बीजेपी आईटी सेल के मुखिया और नेता अमित मालवीय ने खास ट्वीट किया और बताया कि “बारामती के चाणक्य शरद पवार के लिए एक विचार, उनके भतीजे ने उनकी नाक के नीचे विद्रोह कर दिया, एक नेता के रूप में उनका कद कम हो गया, उनके दो शीर्ष सहयोगी भ्रष्टाचार के लिए जेल में हैं और इससे भी बदतर, उन्हें सेना को सीएम पद देना पड़ा। ये सब सिर्फ बीजेपी को रोकने के लिए, फिर भी गिरा एमवीए ! “ अमित मालवीय ने कहा कि महा विकास अघाड़ी का पतन शरद पवार के लिए एक बड़ी क्षति है, जिन्होंने खुद को इस गठबंधन के निर्माता के रूप में देखा।“ उद्धव ठाकरे ने न केवल अपना सीएम पद खो दिया है, बल्कि राकांपा और कांग्रेस के साथ एक गैर-सैद्धांतिक गठबंधन में प्रवेश करके बालासाहेब की विरासत को भी धूमिल किया है। लेकिन एमवीए का पतन शरद पवार के लिए एक बड़ा नुकसान है, जिन्होंने खुद को इस गठबंधन के वास्तुकार के रूप में माना है। , “उन्होंने ट्वीट किया। यह बताया गया है कि विद्रोह शुरू होने के बाद उद्धव दो बार पद से इस्तीफा देना चाहते थे लेकिन शरद पवार ने उन्हें रोक दिया था। उद्धव पर भाजपा नेता ने विश्लेषण किया कि वह सत्ता में रहते हुए भी पार्टी को नियंत्रित नहीं कर सके, जबकि उनके पिता बालासाहेब एक ऐसे व्यक्ति थे जो सत्ता में न होते हुए भी सरकारों को नियंत्रित कर सकते थे।बागी नेता एकनाथ शिंदे जिन्होंने अब तक महा विकास अघाड़ी सरकार के पतन का नेतृत्व किया उन्होंने दावा किया कि उनके गुट का किसी भी पार्टी में विलय नहीं होगा और उन्हें शिवसेना बालासाहेब के रूप में जाना जाएगा क्योंकि वे बालासाहेब के हिंदुत्व के सच्चे अनुयायी हैं। गुवाहाटी में एक हफ्ते के प्रवास के बाद बागी विधायक बुधवार रात गोवा पहुंचे लेकिन जिस फ्लोर टेस्ट के लिए वे आए हैं वह आज नहीं होगा क्योंकि उद्धव पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं। चंद दिन पहले महाराष्ट्र में किसी ने भी ये कल्पना नहीं की होगी कि, राज्य में एक ऐसा राजनितिक भूचाल आएगा कि,सरकार गिर जाएगी। और चंद दिनों में ही पूरा का पूरा खेला हो गया। और उससे बड़ा खेला समझिये या एकनाथ शिंदे का भाग्य समझिये कि जिस बागी नेता एकनाथ शिंदे को लोग महाराष्ट्र का उप मुख्यमंत्री मान चुके थे वो कुछ ही घंटों में राज्य का मुख्यमंत्री घोषित हो गया। इसकी कल्पना स्वयं एकनाथ शिंदे को भी नहीं थी। फिलहाल, महाराष्ट्र की बागडोर अब एकनाथ शिंदे के हाथों में आ गयी है। अब इसके आगे वह शिवसेना पार्टी के बागडोर की लड़ाई भी शायद लड़कर सेना भवन पर अपना कब्ज़ा जमाकर बाघ बनने की तैयारी में रहेंगे। क्यूंकि, मुंबई में अब कुछ ही महीनो में बीएमसी चुनाव भी होनेवाले हैं। (लेखक : संतोष पाठक, मुंबई