इनपुट क्रेडिट से जुड़े जीएसटी कानून के प्रावधानों पर कैट एवं टैली ने चिंता जताई

binod Takiawala

अब से कुछ महीने बाद अप्रत्यक्ष करों का अब तक का सबसे बड़ा सुधार जीएसटी कानून देश में लागू होने वाला है एवं जिसको लेकर कानून निर्माता आखिरी दौर कीतैयारी में जुटे हैं जिससे एक सर्वसम्मत कानून संसद एवं विधानसभाओं में पारित हो सके ! व्यापारियों के शीर्ष संगठन कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) एवंदेश में एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर की प्रमुख कंपनी टैली सॉल्यूशंस लिमिटेड ने जीएसटी का पूर्ण रूप से समर्थन करते हुए छोटे व्यावसायियों से सम्बंधित कुछ प्रावधानों परचिंता जताते हुए सुधार का आग्रह किया है !

देश में लगभग 6 करोड़ छोटे व्यावसायी हैं जिनमें से अधिकांश को जीएसटी के अन्तर्गत आना पड़ेगा !इस कड़ी में जीएसटी में यह प्रावधान किया गया है की मालखरीदने वाले को दिए हुए कर का पूरा लाभ (इनपुट क्रेडिट) जभी मिलेगा जब माल बेचने वाला प्राप्त किये हुए कर को सरकार के राजस्व में जमा कराये ! इस प्रावधान सेकर की पालना करने वाले लोग निश्चित रूप से हतोत्साहित होंगे !

READ  2022 तक भारत-आसियान व्यापार हो जाएगा 200 अरब डालर

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा की यह संतोष की बात है की केंद्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली के प्रयासों से सभीराज्यों एवं केंद्र सरकार में जीएसटी पर बनी सहमति से अब इस कानून पर लगे अनिश्चितता के बादल छट गए हैं ! व्यापारियों एवं अन्य वर्गों को निश्चित रूप सेजीएसटी कानून में बड़ा लाभ होने वाला है ! लेकिन यदि इनपुट क्रेडिट के प्रस्तावित प्रावधान में सुधार नहीं किया गया तो बड़ी संख्यां में व्यापारियों पर इसका दुष्प्रभावपड़ेगा ! कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी.सी.भरतिया ने कहा की देश के व्यापारियों की ओर से हम केंद्रीय वित्त मंत्री श्री जेटली का ध्यान इस विसंगति की ओर आकृष्ट करतेहुए आग्रह करते हैं की इसे सुधारा जाए ! उन्होंने कहा की इनऑउट क्रेडिट जीएसटी कानून की आत्मा और मूल आधार है और इस को लेकर व्यापारियों को जीएसटीकानून में परिवर्तित होते हुए कोई परेशानी न आये , यह सुनिश्चित करना बेहद आवश्यक है !

READ  NCP’s Supriya Sule meets PM Modi, demands package for Maharashtra farmers

टैली सॉल्यूशन लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री भरत गोयनका ने कहा की इसमें कोई दो राय नहीं है की जीएसटी भरत के बाजार में समान प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देगाऔर सारा भारत एक बाजार होगा किंतु जीएसटी कानून के कुछ प्रावधान छोटे व्यावसायियों के लिए अनेक परेशानियों का कारण बन सकते हैं जिसमें विशेष तौर परइनपुट क्रेडिट का सरलता से न मिलना है वहीँ दूसरी ओर व्यापारियों की रेटिंग का प्रावधान बाजार में मुद्रा की तरलता को प्रभावित करेगा जिससे व्यापारियों परअनावश्यक दबाव बनेगा ! इस दृष्टि से इनपुट क्रेडिट को कर भुगतान से जोड़ने की बजाय टेक्नोलॉजी द्वारा जमा कराई गयी रिटर्न से जोड़ना बेहतर होगा!

More in Business, City News
TRADE BODY (CAIT) & TALLY RAISE CONCERN ON GST LAW, AFFECTING SMALL BUSINESSES

The biggest indirect tax transformation ‘GST’ will be upon us in a few weeks from now.  The law makers are...

RECORD VISITORS RESPONSE AT AAHAR 2017

Binod Takiawala Surpassing all previous records, the five - day specialized B2B annual event of the India Trade Promotion Organization...

Counting Day LIVE on News18 India and CNN-News18

New Delhi, 10th March 2017: As the nation awaits the results of elections in Uttar Pradesh, Punjab, Uttarakhand, Goa &...

Close